‘बाबा का ढाबा’ की कमाई 75000 परडे पब्लिक ने किया फेमस तो बदल गयी किस्मत zomato से हो रही है delivery

नई दिल्ली ‘बाबा का ढाबा’ की कहानी सुनकर एक बात का एहसास तो जरुर होता है पब्लिक किसी को भी रातों रात अपने सर पर बिठा सकती है और गिरा भी सकती है ऐसी ही कहानी है बाबा का ढाबा की जो एक दिन पेट भरने लायक पैसे भी नहीं कमा पाते थे और आज 75000 से 80000 एक दिन मे कमा रहे हैं वायरल वीडियो की वजह से सोशल मीडिया पर चर्चा में आए

मालवीय नगर मेन मार्केट में बाबा का ढाबा चलाने वाले एक बुजुर्ग कांता प्रसाद किस्मत खुल गई है। बुजुर्ग कांता प्रसाद और उनकी पत्नी बादामी देवी की बदहाली का वीडियो देखने के बाद ‘बाबा का ढाबा’ अब zomato में भी ल‍िस्‍टेट हो गया है। ऐसे में लोग ऑनलाइन भी ‘बाबा का ढाबा’ से खाना ऑर्डर कर सकते हैं। zomato की ओर से ट्वीट करके बताया गया है- बाबा का ढाबा’ अब जोमैटो पर ल‍िस्‍टेड है। हमारी टीम वहां के बुजुर्ग दंपती के साथ काम कर रही है।

बता दें कि यू-ट्यूबर गौरव वासन ने ही कुछ दिन पहले बुजुर्ग कांता प्रसाद और उनकी पत्नी बादामी देवी की बदहाली का वीडियो बनाया था। इसके बाद फेसबुक, ट्विटर व इंस्टाग्राम पर पोस्ट कर दिया। बृहस्पतिवार  हैशटैग बाबा का ढाबा ट्विटर पर ट्रेंड करने लगा। वीडियो में बुजुर्ग रोते हुए कह रहे था कि उनके ढाबे पर कोई ग्राहक नहीं आ रहा है।

यह वीडियो देखने के बाद बॉलीवुड अभिनेत्री रवीना टंडन, सुनील शेट्टी, स्वरा भास्कर, सोनम कपूर समेत तमाम हस्तियों ने अपील करते हुए ट्वीट किया। भाजपा के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता के अलावा आम आदमी पार्टी के विधायक सोमनाथ भारती भी मदद के लिए पहुंचे।

लोग यहां खाना खाते हुए अपने वीडियो व सेल्फी भी पोस्ट कर रहे हैं। सोमनाथ भारती ने तो अपनी ओर से बुजुर्ग दंपती कांता प्रसाद और बादामी देवी को मदद का आश्वासन भी दिया है।

बाबा +का+ ढाबा

‘बाबा का ढाबा’ की तरह ही आगरा के कांजीबड़ा-दहीबड़ा और मोंठ की बिक्री करने वाले की भी किस्मत बदल गयी

नारायण सिंह जी 90 वर्षीय बुजुर्ग हैं वो आगरा में कांजीबड़ा-दहीबड़ा बेच कर अपना घर चलाते हैं बाबा काढाबा की तरह ही किसी ने इनका वीडियो भी सोशल मीडिया पर डाल दिया जिसके बाद वहाँ एक शाम प्रशाशन के एक बड़े अधिकारी आते हैं और उस बुजुर्ग के सारे कांजीबड़ा-दहीबड़ा खरीद लेते हैं जिसे देखकर वहां पब्लिक की भीड़ जमा होने लगती है और आज उनके पास ग्राहकों की लाईन लगी रहती है

90 वर्षीय नारायण सिंह ने बताया कि वे पिछले 40 साल से कांजीबड़ा-दहीबड़ा और मोंठ की बिक्री कर रहे हैं। लॉकडाउन से उनका ये धंधा चल नहीं रहा था। प्रतिदिन दो सौ रुपये कमाने वाले बाबा को 80 से सौ रुपये की बचत हो रही थी। लॉकडाउन से पूर्व उन्हें तीन सौ रुपये तक की बचत हो जाती थी। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने की खबर हिन्दुस्तान में खबर प्रकाशित होने के बाद शुक्रवार से ही उनके धंधे ने रफ्तार पकड़ ली।

शाम से रात्रि तक उनका हाथ बंद नहीं हुआ। उनका कहना था कि उन्हें बस इतना रोजगार चाहिए, जिससे दाल-रोटी चलती रहे। बाबा के कांजीबड़े खाने के लिए पुलिसकर्मी, कमलानगर, कालिंदी बिहार, शमशाबाद, राजपुर, न्यू आगरा, बल्केश्वर, ट्रांस यमुना कॉलोनी, सिंकदरा, भगवान टॉकीज, राजा मंडी, शाहगंज आदि आगरा के कौने-कौने से लोग पहुंचे। बाबा के साथ सेल्फी क्लिक की। उनके कांजीबड़े के साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टग्राम पर तस्वीरें शेयर कीं। 

आगरा में दिखी ‘लॉकल फॉर वोकल’ की मुहिम 
सोशल मीडिया पर जैसे ही कांजीबड़े वाले बाबा का वीडियो वायरल हुआ है। लोगों का जमघट लगना शुरू हो गया है। बड़ी संख्या में लोग बाबा के कांजीबड़े खाने के लिए जा रहे हैं।

इससे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘लॉकल फॉर वोकल’ अभियान का मजबूती मिल रही है। ये वीडियो #वोकल पर ट्रेंड कर रहा है। लाइक्स के मामले में वीडियो दूसरे नंबर पर है। वहीं, देश के बड़े-बड़े कंटेंट क्रिएटर, फोटोग्राफर भी इंस्टाग्राम पर बाबा की सहायता के लिए आगरा के लोगों से अपील कर रहे हैं। 

Latest Facebook and WhatsApp status 

Read more post like this

2 रुपये का Antique coin आपको बना देगा लखपति अगर आपके पास भी है ये 2 रुपये का पुराना सिक्का तो आप भी हो जाओगे लखपति

केदारनाथ दर्शक के लिये हेलीकाप्टर सेवा शुरु उत्तराखंड सरकार का श्रध्दालुओं को तोहफा किरया भी होगा बेहद कम

Leave a Reply

Your email address will not be published.